Google search engine
HomeHindiछत्तीसगढ़ के कांकेर में बड़े नक्सल विरोधी अभियान में शीर्ष कमांडर समेत...

छत्तीसगढ़ के कांकेर में बड़े नक्सल विरोधी अभियान में शीर्ष कमांडर समेत 18 नक्सली मारे गए

[ad_1]

नई दिल्ली: माओवादी विद्रोहियों को एक बड़ा झटका देते हुए, मंगलवार को छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले में सुरक्षा बलों द्वारा शुरू किए गए एक बड़े नक्सल विरोधी अभियान में एक शीर्ष नेता सहित कम से कम 18 नक्सली मारे गए। छत्तीसगढ़ पुलिस के जिला रिजर्व गार्ड और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) द्वारा संयुक्त रूप से चलाया गया यह ऑपरेशन छोटेबेठिया पुलिस स्टेशन की सीमा के भीतर जंगली इलाकों में चलाया गया। ऑपरेशन की योजना विशिष्ट खुफिया सूचनाओं के आधार पर सावधानीपूर्वक बनाई गई थी, जो बिनागुंडा क्षेत्र में माओवादी विद्रोहियों की मौजूदगी का संकेत देती है। बीएसएफ ने जिला रिजर्व गार्ड के साथ समन्वय में उग्रवाद को जड़ से खत्म करने के लिए अभियान शुरू किया।


भीषण गोलाबारी चल रही है

माओवादी विद्रोहियों से मुठभेड़ होने पर, बीएसएफ टीम को भारी गोलीबारी का सामना करना पड़ा, जिससे गोलियों का भीषण आदान-प्रदान हुआ। सीपीआई माओवादी विद्रोहियों के तीव्र प्रतिरोध के बावजूद, सुरक्षा बलों ने प्रभावी ढंग से जवाबी कार्रवाई की, जिसके परिणामस्वरूप 18 विद्रोहियों को मार गिराया गया, जिसमें उच्च पदस्थ माओवादी नेता शंकर राव भी शामिल थे, जिनके सिर पर 25 लाख रुपये का इनाम था।

हथियारों की बरामदगी

ऑपरेशन के बाद मुठभेड़ स्थल से जब्त की गई सात एके श्रृंखला राइफलों और तीन लाइट मशीन गन (एलएमजी) के साथ चार एके -47 असॉल्ट राइफलों सहित हथियारों का एक बड़ा जखीरा बरामद हुआ। विद्रोहियों का सफल निष्कासन माओवादी शस्त्रागार में एक महत्वपूर्ण सेंध को रेखांकित करता है।

सुरक्षा बलों ने जहां नक्सलियों पर करारा प्रहार किया, वहीं मुठभेड़ के दौरान सीमा सुरक्षा बल के दो जवान घायल हो गए। सौभाग्य से, घायल कर्मियों में से एक, जिसके पैर में गोली लगी थी, खतरे से बाहर बताया जा रहा है, जो विपरीत परिस्थितियों में सुरक्षा बलों के लचीलेपन और वीरता को दर्शाता है।

ऑपरेशन अभी भी जारी है क्योंकि सुरक्षा बल किसी भी शेष विद्रोही या संभावित खतरे की तलाश में क्षेत्र की तलाशी जारी रखे हुए हैं। सुरक्षा बलों के निरंतर प्रयास क्षेत्र से नक्सलवाद के खतरे को खत्म करने के संकल्प को रेखांकित करते हैं।

मतदान से कुछ दिन पहले मुठभेड़

छत्तीसगढ़ में लोकसभा चुनाव के लिए मतदान शुरू होने से कुछ दिन पहले ऑपरेशन का समय एक महत्वपूर्ण राजनीतिक आयाम जोड़ता है। पहले चरण में केवल बस्तर लोकसभा क्षेत्र में 19 अप्रैल को मतदान होना है और कांकेर में 26 अप्रैल को दूसरे चरण में मतदान होना है, इस पृष्ठभूमि के बीच यह मुठभेड़ स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने में सुरक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका को रेखांकित करती है। क्षेत्र में नक्सली विद्रोह.



[ad_2]

Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments